HomeNewsInternationalकोरोना वैक्सीन के 40 करोड़ डोज़ बना रही है 1000 रुपये की

कोरोना वैक्सीन के 40 करोड़ डोज़ बना रही है 1000 रुपये की

- Advertisement -

सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ के मुताबिक, इसके लॉन्च से पहले वैक्सीन की 300 मिलियन खुराक तैयार की जाएंगी।

- Advertisement -

वैक्सीन का ट्रायल अगस्त के अंत तक मुंबई और पुणे में 4,000 से 5,000 लोगों पर किया जाएगा, क्योंकि यहां संक्रमण की घटना सबसे अधिक है।

Jul 22, 2020, 06:28 PM IST

- Advertisement -

भारत में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के टीके का भी परीक्षण किया जाएगा। ट्रायल अगस्त के अंत तक 5,000 स्वयंसेवकों पर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित किया जाएगा। कंपनी के सीईओ अदार पूनावाला के मुताबिक, अगर ट्रायल सफल रहा, तो टीके की 30 से 400 मिलियन खुराक 2021 की पहली तिमाही तक तैयार हो जाएंगी। वैक्सीन इस साल के अंत तक आ सकती है। वैक्सीन की एक खुराक की कीमत 1,000 रुपये या उससे कम हो सकती

वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी सीरम इंस्टीट्यूट के सहयोग से विकसित किया जाएगा। वैक्सीन की आपूर्ति भारत सहित 60 अन्य देशों में की जाएगी। कंपनी द्वारा निर्मित वैक्सीन भारत के लिए 50 प्रतिशत होगा।

- Advertisement -

पुणे में 4 से 5 हजार स्वयंसेवकों को टीका लगाया जाएगा
अदार पूनावाला के अनुसार, हमने परीक्षण की मंजूरी के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को आवेदन दिया है। स्वीकृति में एक से दो सप्ताह लग सकते हैं। वैक्सीन को मरीजों तक पहुंचने में तीन सप्ताह तक का समय लगेगा। पुणे और मुंबई में परीक्षण 4,000 से 5,000 स्वयंसेवकों का टीकाकरण करेंगे, क्योंकि इसमें संक्रमण के मामलों की संख्या सबसे अधिक है। यह परीक्षण का तीसरा चरण है।

प्रति माह 70 मिलियन खुराक तैयार करने की योजना
अदार पुनावाला के अनुसार, परीक्षण के प्रारंभिक चरण ने साबित कर दिया है कि टीका सुरक्षित है, इसलिए देश में वैक्सीन परीक्षण में बुजुर्ग और स्वास्थ्य कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। कंपनी वैक्सीन तैयार करने के लिए विशेष अनुमोदन लेगी ताकि हर महीने 70 मिलियन खुराक तैयार की जा सके।

कंपनी ने 3 मिलियन डोज़ तैयार की
सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ के अनुसार, अगर सब कुछ योजना के अनुसार होता है, तो तीसरे चरण के परीक्षण में दो महीने लगेंगे और फिर नवंबर तक मंजूरी मिल सकती है। मौजूदा परिस्थितियों में, इसे अगले साल की पहली या दूसरी तिमाही में जनता तक पहुंचाया जा सकता है। कंपनी ने वैक्सीन की 3 मिलियन डोज़ तैयार की है। यह मशीनरी की क्षमता और सटीक परिणाम जानने के लिए बनाया गया है।

वैक्सीन नैदानिक ​​परीक्षणों में प्रभावी साबित हुई
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के अनुसार, परिणाम अच्छे रहे हैं, जिसने सोमवार को नैदानिक ​​परीक्षण के परिणामों की घोषणा की। मेडिकल जर्नल द लांसेट में सोमवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, यह वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित और प्रभावी है। इस जानकारी के बाद, ऑक्सफोर्ड का टीका फ्रंटरनर टीकों की सूची में सबसे आगे चला गया है।

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक ट्वीट के अनुसार, AZD1222 नामक वैक्सीन को एक अच्छी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया मिली है। वैक्सीन परीक्षण और ऑक्सफ़ोर्ड की निगरानी टीम में शामिल टीम ने वैक्सीन की सुरक्षा के बारे में कोई चिंता नहीं दिखाई और इसे एक मजबूत प्रतिक्रिया मिली है।

यह भी पढ़िए कपिल शर्मा के ऑस्ट्रेलियाई फैन ने उनकी बेटी का नाम उनके नाम पर रखा

यह भी पढ़िए विडियो के साथ उड़ीसा के बालासोर में ध्रुवास्त्र निर्देशित मिसाइल का सफल परीक्षण

यह भी पढ़िए सुशांत सिंह केस में नया मोड़ : दिशा सलियन कि मौत के बाद से सुशांत कि हालत और खराब हो गई थी

- Advertisement -
infohotspot
नमस्कार! मैं एक तकनीकी-उत्साही हूं जो हमेशा नई तकनीक का पता लगाने और नई चीजें सीखने के लिए उत्सुक रहता है। उसी समय, हमेशा लेखन के माध्यम से प्राप्त जानकारी साझा करके दूसरों की मदद करना चाहते हैं। मुझे उम्मीद है कि आपको मेरे ब्लॉग मददगार लगेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Amazon Exclusive

Promotion

- Google Advertisment -

Most Popular