HomeNewsInternationalरूस ने चीन को S-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली की डिलीवरी रोक दी;...

रूस ने चीन को S-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली की डिलीवरी रोक दी; चीन ने कहा है कि रसियाने दबाव में आकर यह निर्णय लिया है

- Advertisement -

रूस ने चीन को दुनिया की सबसे अच्छी मिसाइल रक्षा प्रणाली की डिलीवरी रोकने का कोई कारण नहीं दिया है।
चीन के बाद, भारत वह देश है, जिसे रसिया ये मिसाइल रक्षा प्रणाली देनेह जा रहा है,वर्ष के अंत तक पहेली सिस्टम मिल सकती है।

- Advertisement -

Jul 27, 2020, 10:52 AM IST


मास्को रसिया को उसके सहयोगी रूस ने कड़ी टक्कर दी है। रूस ने चीन को S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम देना बंद कर दिया है। चीन ने कहा है कि उसने दबाव में फैसला लिया। हालांकि, चीन ने किसी देश का नाम नहीं लिया। लेकिन उनका इशारा स्पष्ट रूप से भारत और अमेरिका की ओर है। S-400 दुनिया का सबसे अच्छा मिसाइल डिफेंस सिस्टम है। रूस के अलावा, केवल चीन के पास कुछ सिस्टम हैं। भारत को साल के अंत तक इसकी पहली मात्रा मिल जाएगी।

- Advertisement -

फिर डिलीवरी कब होगी
रसिया ने न केवल एस -400 की डिलीवरी रोक दी है, बल्कि चीन को यह भी सूचित नहीं किया है कि वह मिसाइल रक्षा प्रणाली कब वितरित करेगा। समाचार एजेंसी के अनुसार, इस बार रूस ने स्पष्ट कर दिया है कि वह चीन को S-400 मिसाइलों की डिलीवरी रोक रहा है। एक चीनी मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि इस कदम से यह स्पष्ट हो गया है कि केवल हथियारों के सौदे पर बातचीत करने से कुछ नहीं होगा ,आपको हथियार चाहिए, सिर्फ एक बिल नहीं।

यह निर्णय दबाव में लिया गया है
रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि चीन का मानना ​​है कि रसिया ने दबाव में एस -400 की डिलीवरी रोक दी है। चीन ने मिसाइल पर प्रशिक्षण के लिए अपने सैनिकों को रूस भी भेजा है। तकनीकी विशेषज्ञ भी रसिया से आने वाले थे। अब ऐसा नहीं होगा। जिनपिंग सरकार के सूत्रों के अनुसार, रूस ने दबाव में फैसला किया है। एक चीनी अधिकारी ने कहा कि रूस को लगा कि अगर महामारी के समय एस -400 को चीन में पहुंचाया गया तो इससे मुश्किल बढ़ जाएगी।

- Advertisement -

चीन ने भारत से पहले मिसाइल सिस्टम खरीदने का फैसला किया था। पहली राशि 2018 में मिली थी। भारत को इस साल के अंत तक सिस्टम मिल जाएगा। खास बात यह है कि रूस ने चीन की डिलीवरी रोक दी है लेकिन दूसरी तरफ भारत को समय पर मिसाइलों की आपूर्ति करने का वादा किया है।

यह रसिया के कदम के कारणों में से एक हो सकता है
रसिया और चीन के अच्छे संबंध हैं। लेकिन अब दोनों के बीच तनाव है। हालांकि,रसियाने सेंट पीटर्सबर्ग आर्कटिक सोशल साइंस एकेडमी के अध्यक्ष वरेरी मितको को कुछ दिन पहले गिरफ्तार कर लिया। वैलेरी कुछ समय से खुफिया एजेंसियों द्वारा निगरानी में है। उस पर चीन को संवेदनशील जानकारी देने और बदले में पैसे लेने का आरोप है। वैलेरी के तीन अन्य साथियों को भी गिरफ्तार किया गया है। जिनमें से दो चीनी नागरिक हैं। तब से, उनके रिश्ते में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हुई है।

यह भी पढ़िए विडियो के साथ उड़ीसा के बालासोर में ध्रुवास्त्र निर्देशित मिसाइल का सफल परीक्षण

यह भी पढ़िए सुशांत सिंह केस में नया मोड़ : दिशा सलियन कि मौत के बाद से सुशांत कि हालत और खराब हो गई थी

यह भी पढ़िए कपिल शर्मा के ऑस्ट्रेलियाई फैन ने उनकी बेटी का नाम उनके नाम पर रखा

यह भी पढ़िए ऑक्स्फ़र्ड और भारतीय कंपनी साथ मिलकर कोरोना वैक्सीन के 40 करोड़ डोज़ बना रही है

- Advertisement -
infohotspot
नमस्कार! मैं एक तकनीकी-उत्साही हूं जो हमेशा नई तकनीक का पता लगाने और नई चीजें सीखने के लिए उत्सुक रहता है। उसी समय, हमेशा लेखन के माध्यम से प्राप्त जानकारी साझा करके दूसरों की मदद करना चाहते हैं। मुझे उम्मीद है कि आपको मेरे ब्लॉग मददगार लगेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Sponsered

Most Popular