HomeNewsNationalवायरल: तीन सींग,तीन आंखों वाले नंदी का निधन, मंदिर परिसर में किया...

वायरल: तीन सींग,तीन आंखों वाले नंदी का निधन, मंदिर परिसर में किया गया अंतिम संस्कार

* यह नंदी बैल 15 साल पहले जटाशंकर के पास भटकता हुआ आया था

- Advertisement -

* जहां नंदी पिछले 15 वर्षों से विराजमान थे। नंदी की उसी स्थान पर मृत्यु हो गई, उनको हवी समाधि दी गई।
* यह नंदी बैल 15 साल पहले जटाशंकर के पास भटकता हुआ आया था

- Advertisement -

बुंदेलखंड: मध्य प्रदेश राज्य के बुंदेलखंड में केदारनाथ धाम के नाम से विख्यात जटाशंकर धाम में एक असाधारण नंदी-बैल की मृत्यु हो गई। जिनका हिंदू विधि के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया और उनका अंतिम संस्कार किया गया। आपको बता दें कि तीन सींग और तीन आंखों वाले नंदी की बीमारी के चलते मौत हो गई थी।

ऐसा माना जाता है कि वेदों ने बैल को धर्म का अवतार माना है। वेदों में बैलों को गायों से अधिक मूल्यवान माना गया है। वहीं जब बात नंदी बैल की आती है तो यह भगवान शिव के प्रमुख गुणों में से एक है। मामला मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के बुंदेलखंड के केदारनाथ धाम के नाम से मशहूर जटाशंकर धाम का है. यहां एक नंदी (बैल) की मृत्यु हुई थी, जिसका बाद में हिंदू संस्कारों के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया था

- Advertisement -

उन्हें समाधि दी गई। तीन सींग और तीन आँखों वाले नंदी की एक बीमारी से मृत्यु हो गई। मंदिर समिति के सदस्यों ने नंदी बैल का अंतिम संस्कार करने और ब्राह्मणों की उपस्थिति में मंत्रों का पाठ करने का फैसला किया, जहां नंदी पिछले 15 वर्षों से विराजमान थे। नंदी की उसी स्थान पर मृत्यु हो गई।

इस कारण मंदिर समिति ने उसी स्थान पर एक गड्ढा खोदा और समाधि बना ली। आपको बता दें कि यह नंदी बैल 15 साल पहले जटाशंकर के पास भटकता हुआ आया था। अपनी तीन आंखों और तीन सींगों के कारण यह बैल जटाशंकर धाम में आकर्षण का केंद्र बना। जब से यह बैल यहां आया है। तभी से लोगों ने उनका नाम नंदी रखा, जो भी भक्त जटाशंकर धाम आते थे। वह कुछ समय के लिए नंदी के पास रहते थे और उनकी इच्छा पूछते थे।

- Advertisement -

नंदी की मृत्यु के बाद महिलाओं ने नंदी के शव के पास बैठकर भजन कीर्तन गाया। मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष अरविंद अग्रवाल का कहना है कि जिस जगह नंदी को दफनाया गया है, उस जगह को स्मारक के रूप में कमेटी विकसित करेगी. आपको बता दें कि बुंदेलखंड क्षेत्र की बिजावर तहसील से जटाशंकर धाम करीब 15 किमी दूर है।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Amazon Exclusive

Promotion

- Google Advertisment -

Most Popular