HomeHealth & WellnessHealthजानिए व्यक्ति को अपनी उम्र के अनुसार प्रतिदिन कितने कदम चलना चाहिए

जानिए व्यक्ति को अपनी उम्र के अनुसार प्रतिदिन कितने कदम चलना चाहिए

- Advertisement -

सुबह उठना या शाम को टहलना (walking) शरीर को फिट और रोगमुक्त रखने का सबसे आसान तरीका है। अन्य सभी भारी व्यायाम करना उबाऊ हो सकता है, लेकिन चलना और टहलना (walking) ऐसे व्यायाम हैं जो न केवल कैलोरी जलाते हैं, बल्कि शरीर को कई अन्य लाभ भी पहुंचाते हैं। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए थोड़ी शारीरिक गतिविधि आवश्यक है। यदि आपको कोई अन्य व्यायाम पसंद नहीं है, तो इसे करना पसंद न करें या शरीर का लचीलापन कम हो, तो आप व्यायाम के रूप में हर दिन 5 मिनट तक टहल सकते हैं। घूमना एक निर्दोष व्यायाम है जिसमें केवल फायदे हैं, नुकसान नहीं।

- Advertisement -

वैज्ञानिकों ने पाया है कि जो लोग दिन में एक से डेढ़ किलोमीटर पैदल चलते हैं, उनमें अन्य न चलने वाले लोगों की तुलना में मृत्यु का लगभग आधा जोखिम होता है। बाद के जीवन में नियमित रूप से चलने वाले वयस्कों का जीवन लंबा और स्वस्थ होता है।

कोलोराडो विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर ह्यूमन न्यूट्रिशन के शोधकर्ताओं ने पाया है कि दैनिक गतिविधियों के अलावा, प्रतिदिन 2,000 कदम मोटापे को रोकने में मदद कर सकते हैं। आहार नियंत्रण न होने पर भी अतिरिक्त कैलोरी जलाने के लिए कई कदम उठाए जाने चाहिए। इसके लिए, वैज्ञानिकों ने कहा है कि 200 कैलोरी जलाने के लिए 1000 कदम चलना चाहिए।

- Advertisement -

यदि आप पहले से ही मोटे हैं, तो नियमित रूप से चलने की आदतें अतिरिक्त वसा को बहाने में आपकी मदद कर सकती हैं। आहार नियंत्रण के साथ नियमित रूप से चलने वाला व्यायाम अतिरिक्त वसा को पिघलाता है, मांसपेशियों को मजबूत करता है।

कैंसर की खोज के बाद से, अनुसंधान से पता चला है कि चलना या व्यायाम कैंसर का मुकाबला करने का एक महत्वपूर्ण कारक है। नियमित रूप से चलने से स्तन कैंसर, कोलोन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, फेफड़े के कैंसर और हड्डी के कैंसर का खतरा कम होता है। जिन लोगों को कैंसर का पता चला है, उनके लिए चलना भी फायदेमंद माना जाता है। कीमोथेरेपी पर नियमित रूप से चलने से कीमोथेरेपी के दुष्प्रभाव कम हो जाते हैं।

- Advertisement -

चलने से रक्त परिसंचरण पर सीधा प्रभाव पड़ता है। शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार रक्त वाहिकाओं की दक्षता में सुधार करता है। हृदय में नियमित रक्त संचार होने से हृदय तेज धड़कने लगता है। कोलेस्ट्रॉल रक्त वाहिकाओं में जमा नहीं होता है। यह हृदय रोग और स्ट्रोक के जोखिम को कम करता है। यह उन लोगों में भी हृदय समारोह में सुधार करने में मदद करता है जिन्हें पहले से ही हृदय रोग है।

मधुमेह और मोटापा सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं। वजन बढ़ने से शरीर में वसा बढ़ती है। वसा शरीर के चयापचय में हस्तक्षेप करता है। यह साबित हो चुका है कि मोटे लोगों में मधुमेह विकसित होने का खतरा अधिक होता है। वॉकिंग से आपको वजन कम करने में मदद मिलती है और अगर आपका वजन अधिक नहीं है तो नियंत्रण में रहें। यह टाइप 2 मधुमेह के विकास के जोखिम को कम करता है। यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग के शोधकर्ताओं ने पाया है कि मधुमेह वाले लोग दिन में 20 से 30 मिनट तक पैदल चलकर अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित कर सकते हैं।

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने देखा है कि सोलह मिनट प्रति दिन लगभग 6 मिनट की गति से चलने से सोचने की क्षमता में सुधार होता है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में मस्तिष्क की क्षमताओं पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। नियमित रूप से युवावस्था से युवावस्था तक चलने से बुद्धि तेज होती है और याददाश्त में सुधार होता है। हम उम्र के रूप में मस्तिष्क को धीमा करके चलने को रोका जा सकता है।

आजकल ज्यादातर बीमारियों की जड़ तनाव है। चलना स्वाभाविक रूप से शरीर में एंडोर्फिन रसायन का उत्पादन करता है। इससे मूड ठीक होता है। नियमित चलना अवसाद, हताशा या अवसाद के प्राथमिक लक्षणों में फायदेमंद है। तनाव कम होने से जीवन में रुचि बढ़ती है।

किसी भी पाचन समस्या से छुटकारा पाने के लिए पैदल चलना एक आसान और प्रभावी तरीका माना जाता है। भूख महसूस करने के लिए आपको रोज सुबह या शाम 5 मिनट तक टहलना (walking) चाहिए। यदि पाचन ठीक नहीं है, तो आपको भोजन के बाद कम से कम 100 कदम चलना चाहिए। ऐसा करने से अपच, पेट फूलना, एसिडिटी, कब्ज जैसी प्राथमिक पाचन समस्याएं दूर हो जाती हैं।

खाने के बाद थोड़ी देर के लिए तेजी से चलना या दौड़ना (running benifits) ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखता है। मधुमेह के रोगियों के लिए भोजन के बाद लगातार भोजन करना बहुत महत्वपूर्ण है। खाने के बाद चलना (walking) आपके शरीर में रक्त संचार को तेज करता है, जिससे शरीर के सभी कार्य अच्छी तरह से होते रहते हैं। खाने के बाद चलना पाचन तंत्र को भोजन को ठीक से पचाने में मदद करता है, जिससे आपका शरीर पोषक तत्वों को अच्छी तरह से अवशोषित और अवशोषित कर पाता है।

रात के खाने के बाद 20 से 30 मिनट तक टहलना (walking) आपको रात की अच्छी नींद देता है। पैदल चलना भी तनाव को कम करने में मदद करता है, इसलिए आपको दिन में जब भी चलना चाहिए, चलना चाहिए।

- Advertisement -
infohotspot
नमस्कार! मैं एक तकनीकी-उत्साही हूं जो हमेशा नई तकनीक का पता लगाने और नई चीजें सीखने के लिए उत्सुक रहता है। उसी समय, हमेशा लेखन के माध्यम से प्राप्त जानकारी साझा करके दूसरों की मदद करना चाहते हैं। मुझे उम्मीद है कि आपको मेरे ब्लॉग मददगार लगेंगे।

27 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Sponsered

Most Popular