HomeSportsजानिए अम्पायर कौन-कौन से उपकरणों से सही निर्णय लेता हे...

जानिए अम्पायर कौन-कौन से उपकरणों से सही निर्णय लेता हे…

- Advertisement -
The Counter

1. गिनती करने वाला काउंटर (The Counter)
इस उपकरण के आविष्कार से पहले अंपायर, एक ओवर में गेंदों को गिनने के लिए 6 सिक्कों, पत्थरों को अपने हाथ में रखा करता था.बॉलर द्वारा फेंकी गयी गेंदों की गिनती के लिए अंपायर,पत्थर को एक हाथ से दूसरे हाथ में स्थानांतरित करता था.

- Advertisement -

लेकिन अब तकनीकी के विकास से अंपायर इसकी जगह “काउंटर” का उपयोग करते हैं. इस उपकरण के प्रत्येक साइड पर विभिन्न बटन होते हैं और  जैसे ही एक गेंद फेंकी जाती है, एक ओवर समाप्त होता है और विकेट गिरता है तो अंपायर बटन दबाता है. ध्यान रहे कि ओवर, आउट और बॉल का बटन अलग-अलग होता है.

Snick-o-meter
- Advertisement -

2. स्निक-ओ-मीटर (Snick-o-meter)

इस उपकरण का उपयोग तीसरे अंपायर द्वारा विकेट कीपर द्वारा विकेट के पीछे कैच (caught behind) की अपील पर सही निर्णय लेने के लिए किया जाता है.

अंपायर ,स्लो मोशन टेलीविज़न रिप्ले का उपयोग करते हुए यह निर्णय लेता है कि बॉल ने बल्ले को छुए या नहीं?

स्टंप के अंदर इस्तेमाल किए गए छोटे माइक की सहायता से अंपायर यह पता लगाता है कि बॉल ने किस चीज को टच किया है; बैट को, पैड को या जमीन को? यहाँ पर अंपायर स्निक-ओ-मीटर की सहायता से बनाये गए पैटर्न का विश्लेषण करके निर्णय लेता है.

The Ball Gauge
- Advertisement -

3.  बॉल गेज (The Ball Gauge)

जब विस्फोटक बल्लेबाज जैसे एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल बल्लेबाजी करते हैं तो अक्सर गेंद का आकार बिगड़ जाता है, वह चपटी सी हो जाती है या गोल नहीं रहती है. इसकी गोलाई का पता लगाने के लिए अंपायर, बॉल गेज का उपयोग करते हैं कि गेंद प्रयोग करने योग्य है या नहीं.

यदि बॉल गोल रिंग से बाहर नहीं निकलती है तो उसको खेलने के योग्य नहीं समझा जाता है और बदल दिया जाता है.

The Light – o – meter

4. लाइट-ओ-मीटर (The Light-o-Meter)
यह उपकरण जमीन पर प्रकाश (लुमेन में) को मापता है. यह डिवाइस मुख्य रूप से टेस्ट मैचों में उपयोग किया जाता है.
यदि अंपायर को संदेह है कि जमीन पर पर्याप्त रोशनी नहीं है तो वह लाइट (ओ-मीटर) के माध्यम से मैदान (आमतौर पर पिच) और आउटफील्ड के बीच में प्रकाश को मापता है.

इस उपकरण ने कई टेस्ट मैचों में विवाद पैदा कर दिया है क्योंकि ऐसे कई मामले हैं जब मैच जीतने के लिए गेंदबाजी करने वाली टीम को अंतिम दिन सिर्फ एक विकेट की आवश्यकता होती है, लेकिन इस उपकरण के माध्यम से रोशनी मापने के कारण मैच को रोकना पड़ा और मैच ड्रा हो गया.

The Protective Shield

5. सुरक्षा कवच (The Protective shield)

यह डिवाइस अंपायर द्वारा पहनी जाने वाली नई डिवाइस में से एक है. इसका प्रयोग अंपायर किसी तेज शॉट से अपने आप को बचाने के लिए करता है. इसे अंपायर के हाथ पर बाँधा जाता है.यह पारदर्शी बनाया जाता है.

कई बार देखा गया है कि अंपायर तेज शॉट से घायल हो जाते हैं इसलिए इस सुरक्षा कवच की मदद से तेज शॉट से खुद का बचाव किया जा सकता है.

Walkie – Talkie

6. वाकी-टॉकी (Walkie-Talkie)

यह हमारे हाथों में एक मोबाइल फोन की तरह है. वॉकी टॉकी; (वाक करते हुए टॉक करना). ऑन-फील्ड अंपायरों द्वारा मैच रेफरी और थर्ड अंपायर के साथ बात-चीत में उपयोग किया जाता है. वॉकी-टॉकी की मदद से अंपायर स्टंप से जुड़े माइक्रोफोन से  आवाज सुनता है.

- Advertisement -
infohotspot
नमस्कार! मैं एक तकनीकी-उत्साही हूं जो हमेशा नई तकनीक का पता लगाने और नई चीजें सीखने के लिए उत्सुक रहता है। उसी समय, हमेशा लेखन के माध्यम से प्राप्त जानकारी साझा करके दूसरों की मदद करना चाहते हैं। मुझे उम्मीद है कि आपको मेरे ब्लॉग मददगार लगेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Sponsered

Most Popular